ALL Old New
थाना सेक्टर 20 का औचक निरीक्षण करने पहुंचे सीपी आलोक सिंह ने थर्मल मीटर से कराई जांच
March 19, 2020 • सुरेश चौरसिया

नोएडा। आज थाना सेक्टर 20 में प्रवेश करते ही पुलिस कमिश्नर नोएडा आलोक सिंह ने भी थर्मल मीटर से जांच कराई, फिर उन्होंने सेक्टर 20  थाने का औचक निरीक्षण किया.

यह सही है,  कोरोना से बचाव हो, चाहे वह वर्दी वाले हों या आम आदमी, हर ओर कोरोना से बचाव का सिर्फ एक ही रास्ता व सुझाव है सावधानी और सिर्फ सावधानी। सावधानी में  रहकर ही हम कोरोना वाइरस को हरा सकते हैं।

 सरकार ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए कई तरह की तैयारी की है. इसके अलावा किसी भी तरह की अफवाह से बचने, खुद की सुरक्षा के लिए कुछ निर्देश जारी किए हैं, जिससे कोरोना वायरस से निपटा जा सकता है.

किसे पहनना चाहिए मास्क?

अगर आप स्वस्थ हैं तो आपको मास्क की जरूरत नहीं है.अगर आप किसी कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति की देखभाल कर रहे हैं, तो आपको मास्क पहनना होगा.जिन लोगों को बुखार, कफ या सांस में तकलीफ की शिकायत है, उन्हें मास्क पहनना चाहिए और तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए.

मास्क पहनने का क्या है तरीका?

मास्क पर सामने से हाथ नहीं लगाना चाहिए.अगर हाथ लग जाए तो तुरंत हाथ धोना चाहिए.मास्क को ऐसे पहनना चाहिए कि आपकी नाक, मुंह और दाढ़ी का हिस्सा उससे ढका रहे.मास्क उतारते वक्त भी मास्क की लास्टिक या फीता पकड़क कर निकालना चाहिए, मास्क नहीं छूना चाहिए. हर रोज मास्क बदल दिया जाना चाहिए.

कोरोना के ख़तरे को कम करने के उपाय

कोरोना से मिलते-जुलते वायरस खांसी और छींक से गिरने वाली बूंदों के ज़रिए फैलते हैं.अपने हाथ अच्छी तरह धोएं.खांसते या छींकते वक़्त अपना मुंह ढक लें.हाथ साफ़ नहीं हो तो आंखों, नाक और मुंह को छूने बचें.

कोरोना वायरस के लक्षण

कोरोनावायरस (कोवाइड-19) में पहले बुख़ार होता है.इसके बाद सूखी खांसी होती है और फिर एक हफ़्ते बाद सांस लेने में परेशानी होने लगती है.इन लक्षणों का हमेशा मतलब यह नहीं है कि आपको कोरोना वायरस का संक्रमण है.कोरोना वायरस के गंभीर मामलों में निमोनिया, सांस लेने में बहुत ज़्यादा परेशानी, किडनी फ़ेल होना और यहां तक कि मौत भी हो सकती है.उम्रदराज़ लोग और जिन लोगों को पहले से ही कोई बीमारी है (जैसे अस्थमा, मधुमेह, दिल की बीमारी) उनके मामले में ख़तरा गंभीर हो सकता है.
कुछ और वायरस में भी इसी तरह के लक्षण पाए जाते हैं जैसे ज़ुकाम और फ्लू में.

कोरोना का संक्रमण फैलने से कैसे रोकें?

अगर आप संक्रमित इलाक़े से आए हैं या किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में रहे हैं तो आपको अकेले रहने की सलाह दी जा सकती है.घर पर रहेंऑफ़िस, स्कूल या सार्वजनिक जगहों पर न जाएंसार्वजनिक वाहन जैसे बस, ट्रेन, ऑटो या टैक्सी से यात्रा न करेंघर में मेहमान न बुलाएं.घर का सामान किसी और से मंगाएं.अगर आप और भी लोगों के साथ रह रहे हैं तो ज़्यादा सतर्कता बरतें.अलग कमरे में रहें और साझा रसोई व बाथरूम को लगातार साफ़ करें.14 दिनों तक ऐसा करते रहें ताकि संक्रमण का ख़तरा कम हो सके.
इस तरह के कोई प्रमाण नहीं मिले हैं कि कोरोना वायरस पार्सल, चिट्टियों या खाने के ज़रिए फैलता है. कोरोना वायरस जैसे वायरस शरीर के बाहर बहुत ज़्यादा समय तक ज़िंदा नहीं रह सकते.

कोरोना वायरस का संक्रमण हो जाये तब?

इस समय कोरोना वायरस का कोई इलाज नहीं है लेकिन इसमें बीमारी के लक्षण कम होने वाली दवाइयां दी जा सकती हैं.जब तक आप ठीक न हो जाएं, तब तक आप दूसरों से अलग रहें.कोरोना वायरस के इलाज़ के लिए वैक्सीन विकसित करने पर काम चल रहा है.इस साल के अंत तक इंसानों पर इसका परीक्षण कर लिया जाएगा.कुछ अस्पताल एंटी-वायरल दवा का भी परीक्षण कर रहे हैं.