ALL Old New
सूक्ष्म , लघु एवं मध्यम उद्योगों से जुड़े पोर्टल का शुभारंभ
April 30, 2020 • सुरेश चौरसिया

नई दिल्ली। केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग तथा सूक्ष्‍म, लघु एवं मध्‍यम उद्यम मंत्री  नितीन गडकरी ने सूक्ष्‍म, लघु एवं मध्‍यम उद्यम राज्यमंत्री  प्रताप चंद्र सारंगी,सूक्ष्‍म,लघु एवं मध्‍यम उद्यम सचिव डॉ. अरुण कुमार पांडा एवं डीसी, सूक्ष्‍म,लघु एवं मध्‍यम उद्यम  राम मोहन मिश्र एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारियों की उपस्थिति में आज नागपुर से वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से सूक्ष्‍म, लघु एवं मध्‍यम उद्यमों से जुड़े योजनाओं के बैंक,परिकल्पनाओं,  नवाचारों एवं रिसर्च पोर्टल (http://ideas.msme.gov.in/)का शुभारंभ किया। यह पोर्टल केंद्र, राज्य एवंकेंद्र शासित प्रदेशों की सरकारों की सभी योजनाओं तक पहुंच सुलभ कराता है।इसमें परिकल्पनाओं, नवाचारों एवं अनुसंधानों को अपलोड करने का प्रावधान है। इस पोर्टल में न केवल परिकल्पनाओं की क्राउड सोर्सिंग की अनूठी विशेषताएं हैं, बल्कि क्राउड सोर्सिंग द्वारा परिकल्पनाओंके मूल्यांकन और रेटिंग की भी सुविधा है। यह उद्यम पूंजी (वेंचर कैपिटल), विदेशी सहयोग आदि की आमद को भी आसान बना सकता है।

इस पोर्टल के महत्व के बारे में बोलते हुए, श्री गडकरी ने कहा कि यह पोर्टल खासतौर पर सूक्ष्‍म, लघु एवं मध्‍यम उद्यमों और आम तौर पर अर्थव्यवस्था के लिए बेहद परिवर्तनकारी साबित होगा। उन्होंने आगे कहा कि यह एक बहुत अच्छी शुरुआत है।उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि इसमें जानकारियों के श्रेणी-वार वर्गीकरण एवं विश्लेषण तथा उपलब्धियां प्रकाशित की जा सकती हैं ताकि अन्य लोग दूसरों के सफल अनुभवों से सीख / प्रेरणा ग्रहण कर सकें।श्री गडकरी ने सलाह दी कि इस पोर्टल को नियमित आधार पर अद्यतन रखने के लिए उच्च कोटि की गुणवत्ता वाले पेशेवरों द्वारा नियंत्रित किया जाना चाहिए।उन्होंने ज्ञान को संपत्ति में बदलने की आवश्यकता पर बल दिया।श्री गडकरी ने यह भी कहा कि अनुसंधान,प्रौद्योगिकी,नवाचारों पर अधिक से अधिक काम करने की आवश्यकता है ताकि लागत में कमी लायी जा सके और गुणवत्ता में सुधार किया जा सके।

सूक्ष्‍म, लघु एवं मध्‍यम उद्यम राज्यमंत्री  प्रताप चंद्र सारंगी नेकहा, यह पोर्टल सूचना साझा करने के माध्यम से सूक्ष्‍म, लघु एवं मध्‍यम उद्यमों को बड़े पैमाने पर मदद पहुंचायेगा।उन्होंने यह भी कहा कि इससे ग्रामीण जनजातीय ज्ञान जैसे अनुसंधान गतिविधियों में मदद मिलेगी और कौशल को अपने ज्ञान का प्रसार करने का मौका मिलेगा।इसी प्रकार, यह किसानों को उनकी उपज के लिए योजना बनाने,उत्पादन,भंडारण और विपणन में सहायता कर सकता है।

यूजर्स अपनीपरिकल्पना, नवाचार या अनुसंधान को इस मंच पर साझा कर सकते हैं, जिसकी समीक्षा संबंधित अधिकारी द्वारा की जायेगी और उन्हें सार्वजनिक उपयोग के लिए प्रकाशित किया जाएगा।पंजीकृत यूजर्स इन विचारों (क्राउड सोर्सिंग) का आकलन कर सकते हैं और  पूंजीपति परिकल्पनाओं, नवाचारों या अनुसंधानों से लैसयूजर्स से जुड़ सकते हैं।

परिकल्पना, नवाचार और अनुसंधान के लिए ऑनलाइन फॉर्म 5-6 मिनट में आसानी से भरे जा सकते हैं। आवेदक अपने क्षेत्र (क्रेडिट / वित्त,मानव पूंजी विकास,प्रौद्योगिकी, अवसंरचना,विपणन,नीति,आदि) का चयन कर सकता है।

आवेदक अपने सेक्टर (रूरल टेक्नोलॉजी इनोवेशन, वेस्ट – टू – वेल्थ, एग्रो - प्रोसेसिंग, मैन्युफैक्चरिंग, सर्विसेज,खादी,कॉयर,आदि) को इंगित कर सकता है।

उपयोगकर्ता के अधिक अनुकूल बनाने के लिहाज से पोर्टल में परिकल्पना (संकल्पना, प्रोटोटाइप या वाणिज्यिक) के चरण को इंगित करने की सुविधा है। परिकल्पना से संबंधित कागजात एवं फोटो तथा वीडियो एवं सोशल मीडिया लिंक भी अपलोड किए जा सकते हैं।

यह पोर्टल व्यवसायीकरण के लिए तैयार परिकल्पनाओं, नवाचारों और अनुसंधानों के वन-स्टॉप कम्पेंडियम के रूप मेंसंभावित उद्यमियों को लाभान्वित करेगा। परिकल्पनाओं की रेटिंग को सार्वजनिक रूप से देखा जा सकता है जोकि निर्णय लेने में मदद करेगा। वेंचर कैपिटलिस्ट परिकल्पना या नवाचार से लैसव्यक्तितथासूक्ष्‍म, लघु एवं मध्‍यम उद्यमों से बातचीत कर सकते हैं। इसी तरह, भविष्य में बैंक,गवर्नमेंट लैब्स,इनक्यूबेटर्स,एक्सेलेरेटर्स, फॉरेन कोलैबोरेशन को जोड़ने के विकल्प उपलब्ध हैं।