ALL Old New
नोएडा में लॉकडाउन की धज्जियां उड़ाकर कर रहे थे नमाज़ अदा, 11 व्यक्तियों के खिलाफ हुआ मुकदमा दर्ज
April 2, 2020 • सुरेश चौरसिया

नोएडा। पूरे देश में लॉकडाउन जारी है, बावजूद कुछ लोग नियम और कानून की धज्जियां उड़ा कर अपनी मनमर्जी करने पर उतारू हैं। इसका परिणाम घातक हो रहा है और लॉकडाउन का असर बेअसर साबित करने में ऐसे लोग आगे आ रहे हैं। ऐसे लोगों पर प्रशासन की कार्रवाई का डंडा चल रहा है। जबकि सच्चाई यही है कि कोरोना वायरस से लड़ने के लिए सिर्फ एक ही रास्ता बचता है, वह पब्लिक डिस्टेंस।

इसे दरकिनार करना कोरोना के संभावित खतरे को बढ़ाना है। एक मामला सेक्टर 20 थाने का है जिसमें एक मकान की छत पर मुस्लिम संप्रदाय के तकरीबन 10- 12 व्यक्ति नमाज अदा करते हुए दिखाई दिए। जब सेक्टर थाना 20 पुलिस को जानकारी मिली तो कार्यवाही एवं जांच पड़ताल की गई और पाया गया कि वह नमाज सादिक पुत्र मोहम्मद जहांगीर निवासी जेजे कॉलोनी सेक्टर 16 की अगुवाई में किया जा रहा था।

इसमें  नमाजी सालिक पुत्र मोहम्मद जहांगीर, साकिब पुत्र मोहम्मद जहांगीर, गुड्डू पुत्र मोहम्मद जहांगीर, मोहम्मद जहांगीर पुत्र मोहम्मद मुस्तफा, नूर हसन पुत्र मोहम्मद इम्तियाज, शमशेर पुत्र मुर्तजा, अफरोज पुत्र मुर्तजा, फिरोज पुत्र मुर्तजा, रजि आलम पुत्र शमशाद, तबर्रुक पुत्र अज्ञात, छोटू पुत्र अज्ञात,  पर मामला दर्ज किया गया है।

बताया गया है कि इन लोगों द्वारा जेजे कॉलोनी सेक्टर 16 नोएडा में मोहम्मद जहांगीर की छत पर 1 अप्रैल को शाम 4:00 बजे नमाज पढ़ी जा रही थी। वर्तमान में कोरोना वायरस के फैलाव को रोकने हेतु जनपद में धारा 144 लागू है तथा मीडिया चैनलों, शासन -प्रशासन द्वारा वायरस को रोकने हेतु एक जगह एकत्रित होने तथा अनावश्यक रूप से घर से बाहर निकलने की लगातार अपील भी की जा रही है।  इसके उपरांत भी उपरोक्त व्यक्तियों ने लापरवाही दिखाते हुए आदेश की अवहेलना करते हुए एक स्थान पर एकत्रित हुए और नमाज भी अदा की। इसके कारण करुणा वायरस के संक्रमण का फैलाव संभावित था।

इस संबंध में थाना सेक्टर 20 पर मुकदमा संख्या 297/ 20 धारा 188, 269, 270 भारतीय दंड विधान व महामारी अधिनियम 1897 की धारा 3 व आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 51b के तहत पंजीकृत किया गया है और अभियुक्त की गिरफ्तारी आदेश दिए जा रहे हैं। इस संबंध में कहा जा रहा है कि इसमें कुछ लोगों की गिरफ्तारी हुई है, पर  अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो सका है।