ALL Old New
नोएडा में कोरोना वायरस का मामले सामने आते ही मचा हड़कंप, जिला स्वास्थ्य विभाग हुआ सतर्क,
March 3, 2020 • सुरेश चौरसिया

नोएडा। चीन से पूरी दुनिया में तेजी से पैर पसार रहा कोरोना वायरस ने दिल्ली एवं नोएडा में दस्तक दे दी है. इटली से दिल्ली लौटे एक शख्स को जानलेवा वायरस से पीड़ित पाया गया है. वहीं वायरस का शिकार हुआ दूसरा शख्स इस वक्त तेलंगाना में है, जो दुबई से वापस लौटा है. इस बीच कर्नाटक सरकार ने कोरोना वायरस को लेकर आपात बैठक बुलाई है. दिल्ली में कोरोना वायरस की दस्तक के बाद नोएडा में भी कोरोना का खौफ पैदा हो गया है.

नोएडा के सीएमओ अनुराग भार्गव  ने कहा कि दो स्कूली बच्चों के सैंपल को जांच के लिए भेजा गया है. उन्होंने बताया, 'मैं स्कूल में बैठा हूं. स्कूल की निगरानी की जा रही है. नोएडा में अब तक 40 लोगों का टेस्ट हुआ है. सब नेगेटिव है. पांच लोगों का सैंपल जांच के लिए भेजा गया है. 2-3 घंटो में रिपोर्ट आएगी. अफवाहों पर ध्यान ना दें. हमारे पास सारी सुविधाएं मौजूद हैं. स्वास्थ्य विभाग की पूरी टीम सतर्क है। हम एहतियात के तौर पर पूरी निगरानी रख रहे हैं।

उधर, नोएडा के सेक्टर 135 स्थित श्री राम मिलेनियम स्कूल को इस बाबत बंद कर दिया गया है. इस स्कूल के बच्चे आगरा जाकर इटली के उस व्यक्ति से मिले थे। स्कूल में दहशत है. अभिभावकों में खलबली है. जांच -पड़ताल में स्वास्थ्य विभाग जुटा हुआ है. जिला प्रशासन पूरी तरह से नजर रख रहा है। हालांकि सीएमओ श्री भार्गव ने ने कहा कि यह एहतियात के तौर पर सतर्कता बरता जा रहा है।

बता दें कि नोएडा में कोरोना के खतरे से निपटने के लिए प्रशासन पूरी तरह तैयार दिख रहा है. सीएमओ अनुराग भार्गव ने कहा कि नोएडा और ग्रेटर नोएडा की 1000 से ज्यादा कंपनियों दिया नोटिस दिया है. इन्हें आदेश दिया गया है कि जो लोग विदेश से लौट रहे हैं, उनके बारे में स्वास्थ्य विभाग को सूचना दें. इस नोटिस में ईरान, सिंगापुर, चीन समेत 13 देशों से लौटने वाले लोगों की स्क्रीनिंग का आदेश दिया गया है.

पूरी दुनिया में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 3,000 के आंकड़े को पार कर चुकी है. चीन में कोरोना वायरस से 42 और मौतें होने की सूचना है. इसी के साथ चीन में इस संक्रमण से मरने वालों की संख्या बढ़ कर 2912 हो गई है. कोरोना के खतरे को देखते हुए ब्रिटिश एयरवेज ने 16 मार्च से 28 मार्च के बीच उड़ान भरने वाली 216 फलाइट्स को कैंसिल कर दिया है.

आगरा  में इटली से लौटे एक ही परिवार के 13 सदस्यों की जांच कराई गई है। इनके साथ दिल्ली में रहने वाले रिश्तेदार भी इटली गए थे। उनमें कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। खबर लगते ही स्वास्थ्य विभाग हरकत में आ गया। सोमवार को जिला अस्पताल में इन्हें भर्ती करके जांच के नमूने लिए गए हैं।  
खंदारी क्षेत्र में रहने वाले जूता कारोबारी दो भाइयों के परिवार इटली घूमने गए थे। उनके साथ दिल्ली में रहने वाले रिश्तेदार भी थे। सभी रविवार को लौटकर आए हैं। एयरपोर्ट पर उतरते ही सभी की थर्मल स्क्रीनिंग कराई गई थी। सूत्रों के मुताबिक इनमें से दिल्ली के रिश्तेदार में संक्रमण की पुष्टि हुई है। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग में खलबली मच गई। आगरा को खबर की गई। 

आलमनगर निवासी रेलवे से रिटायर राशिद अपनी पत्नी के साथ ईरान व इराक जियारत पर गए हुए हैं। फ्लाइट न होने की वजह से वह भारत वापसी नहीं कर पा रहे हैं। मौलाना सैफ अब्बास के भांजे मौलाना सैय्यद अली अब्बास भी ईरान के कुम में अपने परिवार के साथ हैं। मौलाना सैफ अब्बास ने बताया कि कोरोना वायरस के डर से जायरीन अपने होटलों में कैद हैं। धीरे-धीरे उनके पैसे भी कम हो रहे हैं। उन्होंने विदेश मंत्रालय को पत्र लिखकर ईरान व इराक में रह रहे छात्र व जायरीन को भारत वापस लाने की मांग की है। उन्होंने बताया कि लखनऊ के करीब 50 से अधिक परिवार के लोग ईरान में है। यहां पर उनके परिवारवाले उनकी चिंता में परेशान है। 

इमाम ए जुमा मौलाना कल्बे जव्वाद के सुपत्र भी ईरान के कुम में रह कर इस्लामी तालीम हासिल कर रहे हैं। मौलाना कल्बे जवाद ने कहा कि उन्होंने विदेश मंत्रालय को पत्र लिख मांग की है कि जो छात्र वहां से आने की इच्छा रखते हो उनकी मदद की जाए। साथ ही जो जायरीन ईरान व इराक में फंसे हुए हैं। उनको फौरन वहां से निकाला जाए। साथ ही उनकी पूरी मदद की जाए।