ALL Old New
कोविड - 19 महामारी से रोकथाम व संक्रमण रोकने के लिए देशव्यापी समीक्षा जारी
April 6, 2020 • सुरेश चौरसिया

नई दिल्ली। भारत सरकार ने देश में राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों के साथ मिलकर कोविड-19 से निपटने, उसकी रोकथाम और संक्रमण रोकने के लिए तमाम कदम उठाए हैं। इसके तहत उच्च स्तर पर नियमित समीक्षा और इन कदमों की निगरानी की जा रही है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देशभर में कोविड-19 से निपटने को लेकर योजना, तैयारियों और कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने के लिए उच्चाधिकार प्राप्त समूहों की संयुक्त बैठक की अध्यक्षता की। इस दौरान अब तक की गई कार्यवाहियों से अवगत कराया, ताकि अस्पतालों की उपलब्धता, अलगाव और क्वारंटाइन सुविधाएं, टेस्ट और प्रशिक्षण आदि की समीक्षा की।

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), झज्जर में कोविड-19 से निपटने की तैयारियों का जायजा लिया। उन्होंने बताया कि कोविड-19 से निपटने के लिए एम्स झज्जर 300 बेड आइसोलेशन वार्डों के साथ तैयार है, जो मरीजों के लिए त्वरित देखभाल सुनिश्चित करेगा। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि, “दुनिया भर के लोग खतरनाक कोरोना वायरस के खिलाफ एक टीका खोजने के लिए दिन-रात काम कर रहे हैं और जब तक यह नहीं मिल जाता है,  हमें लॉकडाउन और सोशल डिस्टेसिंग को कोविड-19 के खिलाफ एक प्रभावी कदम मानना चाहिए।"

कैबिनेट सचिव ने आज यहां वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से सभी राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों और सभी जिलों के डीएम, एसएसपी, सीएमओ, आईडीएसपी कर्मचारियों के साथ बातचीत की। उन्होंने सभी जिलाधिकारियों को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि दवा और चिकित्सा उपकरण बनाने वाली फार्मा इकाइयां सुचारु रूप से चलें। राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के सभी कर्मचारियों और संबंधित प्रतिनिधियों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये कोरोना से निपटने की रणनीति के बारे में बताया गया। सभी जिलों को आगे कोविड-19 संकट प्रबंधन योजना बनाने की सलाह दी गई है। इस वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से, छह जिलों (भीलवाड़ा, आगरा, गौतमबुद्ध नगर, पठानमथिट्टा (केरल), पूर्वी दिल्ली और मुंबई नगर निगम) के जिला आयुक्तों और नगर आयुक्तों ने अपनी रणनीतियों और अनुभव को साझा किया। अब तक, देश में कुल 274 जिले कोविड- 19 वायरस से प्रभावित हुए हैं।

आईसीएमआर द्वारा कोविड-19 को लेकर तेजी से एंटीबॉडी आधारित ब्लड टेस्ट के संबंध में, क्लस्टर्स (रोकथाम क्षेत्रों के साथ) और बड़े प्रवासी जुटानों/निकासी केंद्रों के लिए एक परामर्श जारी किया गया है। एडवाइजरी के अनुसार, यह सुनिश्चित करने को कहा गया है कि टेस्ट की हर रिपोर्ट सीधे आईसीएमआर पोर्टल पर फीड की जाए। यह कॉन्ट्रैक्ट ट्रेसिंग और समय पर उपचार की प्रक्रिया को तेज करेगा।

इसके अलावा आईसीएमआर द्वारा जारी एक हालिया एडवाइजरी के अनुसार, सार्वजनिक स्थानों पर थूकने से कोविड-19 वायरस का प्रसार बढ़ सकता है। एडवाइजरी में कहा  गया है कि कोविड-19 महामारी के बढ़ते खतरे को देखते हुए लोगों से कोविड-19 महामारी के दौरान धूम्रपान करने वाले तम्बाकू उत्पादों का सेवन करने और सार्वजनिक स्थानों पर थूकने से परहेज करने का आग्रह किया जाता है।

अब तक, 3374 मामलों की पुष्टि हुई है और 79 मौतें हुई हैं। इलाज के बाद 267 लोग ठीक हुए हैं.

कोविड-19 संबंधित तकनीकी मुद्दों पर सभी प्रामाणिक और अद्यतन जानकारी के लिए, दिशा-निर्देश और सलाह नियमित रूप से देखने के लिए यहां क्लिक करें: https://www.mohfw.gov.in/.

कोविड-19 पर  किसी भी तकनीकी जानकारी के लिए technicalquery.covid19@gov.in पर मेल कर सकते हैं और ncov2019@gov.in कोरोना वायरस से जुड़े सवालों को जवाब प्राप्त किया जा सकता है। अगर कोविड-19 को लेकर कोई सवाल है तो परिवार एवं स्वास्थ्य कल्याण मंत्रालय के हेल्पलाइन नंबर: +91-11-23978046 or 1075 (टोल फ्रील) पर फोन कर सकते हैं. कोविड-19 से जुड़े राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के हेल्पलाइन नंबर https://www.mohfw.gov.in/pdf/coronvavirushelplinenumber.pdf यहां हासिल किया जा सकता है।