ALL Old New
कोविड 19 अपडेट : ब्लड के लिए रेड क्रॉस ने जारी किया हेल्पलाइन नंबर
April 21, 2020 • सुरेश चौरसिया

नई दिल्ली। सतर्कतापूर्ण, सक्रिय और क्रमिक प्रतिक्रिया की नीति के तहत भारत सरकार कोविड-19 से बचाव, रोकथाम और प्रबंधन के लिए सभी राज्यों/संघ शासित क्षेत्रों के साथ मिलकर सामूहिक प्रयासों के जरिए अनेक कदम उठा रही है। इन कदमों की नियमित रूप से उच्चस्तरीय समीक्षा और निगरानी की जा रही है।

केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने ब्लड बैंकों में रक्त की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए सभी राज्यों/संघ शासित क्षेत्रों के स्वास्थ्य विभागों को पत्र लिखा है। यह विशेष रूप से थैलेसेमिया, सिकल सेल एनीमिया और हीमोफीलिया जैसे रक्त विकारों से पीड़ित लोगों के लिए नियमित रूप से रक्त चढ़ाना काफी अहम हो जाता है। उन्होंने यह भी कहा कि प्रत्येक रक्त समूह के वर्तमान स्टॉक की रियल टाइम स्थिति की निगरानी के लिए ऑनलाइन पोर्टल ‘ई-रक्तकोष’ के उपयोग की जरूरत होती है। कोविड-19 के प्रबंधन के लिए भागीदारी पूर्ण दृष्टिकोण के तहत इंडियन रेड क्रॉस ने रक्त सेवाओं के लिए दिल्ली में 24X7 नियंत्रण कक्ष की शुरुआत की है। इसके नंबर हैं : 011-23359379, 93199 82104, 93199 82105

मानव संसाधन बढ़ाने और क्षमता निर्माण पर केन्द्रित अधिकार प्राप्त समूह-4 ने कोविड वारियर्स डैशबोर्ड विकसित किया है, जिस पर एमबीबीएस चिकित्सकों, आयुष चिकित्सकों, नर्सों, भारत सरकार की पीएमकेवीवाई, डीडीयू जीकेयू, डीएवाई-एनयूएलएम जैसी भारत सरकार की विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत प्रशिक्षित आशा, आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं, स्वास्थ्य कर्मचारियों जैसे आगे बढ़कर काम करने वाले और एनसीसी, एनवाईकेएस, एनएसएस, पूर्व सरकारी कर्मचारी जैसे स्वास्थ्य स्वयंसेवकों जैसी मानव संसाधनों की 20 श्रेणियों (49 उप श्रेणियों सहित) का डाटा मौजूद है। वर्तमान में इस डैशबोर्ड पर 1.24 करोड़ से ज्यादा मानव संसाधनों का डाटा उपलब्ध है और विशेषज्ञता के आधार पर नए समूहों और उप समूहों के साथ इसे नियमित रूप से अपडेट किया जा रहा है। डैशबोर्ड में राज्य और जिला स्तर पर हर समूह के मानव संसाधनों की संख्या से जुड़ी जानकारी उपलब्ध है। साथ ही संबंधित राज्य और जिला नोडल अधिकारियों के संपर्क का विवरण भी दिया गया है।

प्लेटफॉर्म प्रशिक्षण सामग्री/मॉड्यूल्स की कहीं भी ऑनसाइट डिलिवरी उपलब्ध कराता है, जिसे किसी भी डिवाइस (मोबाइल/लैपटॉप/डेस्कटॉप) के माध्यम से हासिल किया जा सकता है। इस प्लेटफॉर्म पर 53 मॉड्यूल्स के साथ 14 कोर्स उपलब्ध हैं, जिसमें 113 वीडियो और 29 दस्तावेज शामिल हैं।

अभी तक 15 राज्यों और 2 संघ शासित क्षेत्रों में 14,995 आयुष पेशेवर तैनात किए जा चुके हैं, जबकि 16 राज्यों और 3 संघ शासित क्षेत्रों के 68 जिलों में 3,492 एनसीसी कैडेट और 553 एनसीसी स्टाफ तैनात किए जा चुके हैं। 47,000 से ज्यादा कैडेट पहले ही प्रशिक्षण के लिए नामांकन करा चुके हैं और तैनाती के लिए उपलब्ध हो जाएंगे। सैनिक बोर्डों द्वारा तैनाती के लिए 1,80,000 पूर्व कर्मचारियों की भी पहचान की जा चुकी है। इंडियन रेड क्रॉस के 40,000 से ज्यादा स्वयंसेवक देश के 550 से ज्यादा जिलों कोविड 19 से संबंधित गतिविधियों में सक्रिय रूप से भागीदारी कर रहे हैं। सभी राज्यों और संघ शासित क्षेत्रों के लगभग 27 लाख एनवाईकेएस और एनएसएस स्वयंसेवक कोविड 19 से संदित गतिविधियों में सरकारी विभागों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। कुछ स्वास्थ्य कर्मचारियों के पॉजिटिव होने के चलते अस्पतालों के बंद होने और गैर कैविड अस्पतालों में भर्ती कुछ मरीजों के पॉजिटिव होने के मामलों को देखते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने गैर कोविड स्वास्थ्य इकाइयों में ऐसे मामलों की निगरानी के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं। दिशानिर्देशों को इस लिंक पर क्लिक करके पढ़ा जा सकता है :

https://www.mohfw.gov.in/pdf/GuidelinestobefollowedondetectionofsuspectorconfirmedCOVID19case.pdf

 

अस्पतालों में ऐसे मामलों की निगरानी के लिए अस्पताल संक्रमण नियंत्रण समिति को जवाबदेह बनाया गया है। समिति सुनिश्चित करेगी कि स्वास्थ्य कर्मचारी संक्रमण की रोकथाम और नियंत्रण के दिशानिर्देशों का पालन करें। कुछ दिशानिर्देशों का नीचे उल्लेख किया गया है :

  • मामले के बारे में स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों को सूचित करें और मरीज को कोविड 19 के लिए बने आइसोलेशन में उपचार को हस्तांतरित करें।
  • ऐसे मरीजों को मास्क पहनना चाहिए और इस मामले को सिर्फ एक समर्पित स्वास्थ्य कर्मचारी को पूरी सावधानियां बरतते हुए देखना चाहिए।
  • चिकित्सकीय स्थिति के आधार पर मरीज को जरूरी मानकों का पालन करने वाली एक समर्पित कोविड केन्द्र में हस्तांतरित किया जाएगा।
  • केन्द्र संक्रमण मुक्त होगा।
  • मरीज के सभी संपर्कों को क्वारंटाइन किया जाएगा और कई दिन तक उन पर नजर रखी जाएगी।
  • सभी नजदीकी संपर्कों को एचसीक्यू के विपरीत संकेतों को ध्यान में रखते हुए 7 सप्ताह के लिए एचसीक्यू में रखा जाएगा।

वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) बेहद गंभीर कोविड-19 मरीजों में मृत्यु दर कम करने के लिए दवा के प्रभाव का मूल्यांकन करने के लिए अनियमित, दो भुजाओं, सक्रिय तुलनात्मक-नियंत्रित चिकित्सकीय परीक्षण शुरू करने जा रहा है। कोविड-19 से पीड़ित मरीजों और ग्राम-निगेटिव सेप्सिस की नैदानिक विशेषताओं के बीच समानताओं को देखते हुए भारतीय औषधी महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने परीक्षण को स्वीकृति दे दी है और जल्द ही कई अस्पतालों में इसकी शुरुआत हो जाएगी।

जैव प्रौद्योगिकी विभाग ने स्वास्थ्य देखभाल संबंधी चुनौतियों से पार पाने के लिए मेडिकल इक्विपमेंट डायग्नोस्टिक्स, थेरेप्युटिक्स, दवाओं और वैक्सीन के विकास में सहयोग के लिए कोविड-19 कंसोर्टियम से आवेदन मांगे हैं। निम्नलिखित के लिए एक बहुआयामी दृष्टिकोण अपनाया जा रहा है :

 

  • राष्ट्रीय बायोफार्मा मिशन के अंतर्गत विभिन्न प्लेटफॉर्म के उपयोग से वैक्सीन तैयार करने और विकास के विभिन्न चरणों की निगरानी बढ़ाई जा रही है।
  • मौजूदा वैक्सीनों और नए वैक्सीनों के पुनः उद्देश्यीकरण के लिए वित्तीय सहायता की सिफारिश की गई है।
  • कोविड-19 के लिए डीएनए वैक्सीन के विकास, निष्क्रिय रेबीज वेक्टर के उपयोग से वैक्सीन तैयार करने, पुनः संयोजित बीसीजी वैक्सीन के मानव चिकित्सकीय परीक्षण के चरण-3 के लिए सहायता उपलब्ध कराई जा रही है।
  • आण्विक और त्वरित डायग्नोस्टिक किट के स्वदेशी उत्पादन के लिए सहायता भी उपलब्ध कराई जा रही है।

चार जिलों- माहे (पुडुचेरी), कोदागु (कर्नाटक), पौढ़ी गढ़वाल (उत्तराखंड) और प्रतापगढ़ (राजस्थान) में पिछले 28 दिन से कोई नया मामला सामने नहीं आया है। अब 23 राज्यों/ संघ शासित क्षेत्रों के 61 ऐसे अतिरिक्त जिले हैं जहां पिछले 14 दिनों से कोई मामला दर्ज नहीं किया गया है। इस सूची में अब चार जिलों- महाराष्ट्र के लातूर, उस्मानाबाद, हिंगोली और वाशिम को शामिल किया गया है।

देश में कोविड-19 के कुल 18,601 सत्यापित मामले हो चुके हैं। सुधार के बाद 3,252 लोगों यानी 17.48 प्रतिशत लोगों को डिस्चार्ज कर दिया गया है। कोविड-19 से अभी तक देश में कुल 590 लोगों की मृत्यु हो चुकी है।

कोविड-19 से संबंधित तकनीकी मामलों के बारे में सभी प्रकार की विश्‍वसनीय और अद्यतन जानकारी, दिशा-निर्देशों एवं परामर्शों के लिए कृपया नियमित रूप से https://www.mohfw.gov.in/ देखें।

कोविड-19 से संबंधित तकनीकी प्रश्‍नों को technicalquery.covid19@gov.in और अन्य प्रश्‍नों को ncov2019@gov.in पर ई-मेल के माध्‍यम से भेजा जा सकता है।

कोविड-19 के बारे में किसी भी प्रश्‍न के बारे में कृपया स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्रालय को हेल्‍पलाइन नम्‍बर : +91-11-23978046 या 1075 (टोल फ्री) पर सम्‍पर्क करें। कोविड-19 के बारे में राज्‍यों/संघ शासित प्रदेशों के हैल्‍पलाइन नम्‍बरों की सूची https://www.mohfw.gov.in/pdf/coronvavirushelplinenumber.pdf पर भी उपलब्‍ध है।