ALL Old New
कोरोना वाइरस के मद्देनजर मंगलमय परिवार द्वारा आयोजित दिव्य श्री राम कथा की हुई समाप्ति की घोषणा
March 14, 2020 • सुरेश चौरसिया

नोएडा। नोएडा के सेक्टर 21  स्थित रामलीला मैदान, नोएडा स्टेडियम में मंगलमय परिवार के सौजन्य से आयोजित दिव्य श्री राम कथा ( 14-22 मार्च ) का कोरोना वायरस के मद्देनजर आज पहले ही दिन समाप्ति की घोषणा कर दी गई।


कथा व्यास श्री विजय कौशल जी महाराज मंच पर जरूर विराजमान हुए और भक्ति पूर्वक भजन भी किया जिससे उपस्थित श्रोता झूम उठे। फिर उन्होंने कोरोना वायरस के वैश्विक संकट को देखते हुए कथा समापन की घोषणा कर दी। उन्होंने कहा कि आज भारत ही नहीं, बल्कि दुनिया में कोरोना वायरस के रूप में वैश्विक संकट आया हुआ है।
उन्होंने कहा कि दुनिया के बड़े-बड़े देश जो प्रकृति को अपने अनुसार चलाना चाहते थे, आज प्रकृति के आगे नतमस्तक हैं। उन्होंने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी,  गृह मंत्री अमित शाह और  उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अपील को स्वीकार करते हुए कथा समाप्ति की घोषणा कर दी।

उन्होंने कहा कि आज कोरोना वाइरस के विश्वव्यापी  समस्या पर लोगों को एकत्रित न होने का जो देश के प्रधानमंत्री द्वारा आग्रह किया गया है, उसे हम स्वीकार करते हैं। उन्होंने कहा कि आयोजकों ने दिव्य श्री राम कथा के श्रवण के लिए काफी प्रतीक्षा भी किया है। पर, प्रतीक्षा का फल हमेशा मेधा होता है, मीठा होता है।

उन्होंने बताया कि वे कई कथाओं को इस दृष्टि से विसर्जित किया है। उनके श्रीमुख से यह शब्द सुनकर श्रोताओं में गहरी निराशा हुई। पर, उन्होंने कहा कि कार्यक्रम में बदलाव हो, अगले साल फिर वे इसी स्थान पर कथा करेंगे। उन्होंने पूरे देशवासियों से प्रधानमंत्री की इच्छा का स्वागत करने की अपील भी की।

उन्होंने बताया कि रविवार को प्रातः 9:00 बजे मंडप में यज्ञ- हवन होगा और जिन्होंने कलश को धारण किया है, वह वापस होगा। कल हवन के बाद होली खेली जाएगी।

इस मौके पर गौतमबुद्ध नगर के सांसद डॉ महेश शर्मा ने बताया कि कौशल जी महाराज के साथ शहर वासियों का भावनात्मक रिश्ता जुड़ा हुआ है। पर, इस समय परिस्थितियां कुछ अलग ही है, जिससे कथा का समापन किया गया है। उन्होंने कहा कि 135 करोड़ का यह देश है और हमारे धर्म संस्कृति है, जो इतने लोगों को एक सूत्र में बांध कर रखा हुआ है। उन्होंने कहा कि मानव जब कहीं रास्ते से भटकने लगता है, तो रास्ता दिखाने के लिए संत -महात्मा प्रकट होते हैं। उन्होंने ईश्वर की इच्छा को स्वीकार किया। इस अवसर पर महेश बाबू गुप्ता ने कहा कि इस साल उम्मीद थी कि पुरानी कथाओं का रिकॉर्ड टूटेगा। पर, आज पहले ही दिन कथा के अंतिम कथा के रूप में देखना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि महाराज जी के आदेश को हम सभी शिरोधार्य कर रहे हैं।
 उन्होंने बताया कि गौशाला के लिए जो उन्होंने लक्ष्य रखा था, वह लक्ष्य लगभग पूरा कर लिया गया है, जितना चाहा, उतना उन्हें मिला है। कोई दिक्कत नहीं आई। उन्होंने बताया कि मंगलमय परिवार 10 हजार लोगों को जोड़ने के लिए प्रयास किया और लगभग 5 हजार लोग इससे जुड़ गए हैं। 7 हजार लोगों का रसीद आना बाकी है। उन्होंने पूरी टीम को इस कथा के आयोजन में भागीदारी निभाने के लिए धन्यवाद भी दिया। इस मौके पर देवेंद्र गंगल, एन के अग्रवाल, सुधीर गुप्ता, हर्ष कंसल, अनिल गुप्ता, संजय गोयल, बलराज गोयल, विमल अग्रवाल, अमित अग्रवाल, पवन गुप्ता, मुकेश गर्ग, अमित राजवंशी, कुलदीप गुप्ता, उमेश बंसल, मोहनलाल गुप्ता, मनीष गुप्ता, नरेश शर्मा, प्रेम प्रकाश सिंह बिष्ट, एम के अग्रवाल, प्रमोद शर्मा, चितरंजन, परमात्मा शरण बंसल, मुकेश अग्रवाल सहित मंगलमय परिवार के सारे कार्यकर्ता और बड़ी संख्या में भक्त उपस्थित थे। आज मूसलाधार बारिश के बाद भी कथा श्रवण करने वाले भक्तों की काफी भीड़ जुटी थी और उनमें कथा सुनने का गजब का उत्साह था।