ALL Old New
कोरोना वाइरस के लिए तीसरा सप्ताह है सरकार को इससे निपटने के लिए बड़ी चुनौतियां
March 22, 2020 • सुरेश चौरसिया

नई दिल्ली। कोरोना वाइरस मामले को लेकर दूसरे और तीसरे सप्ताह अति महत्वपूर्ण होते हैं। भारत सरकार ने ऐन मौके पर बड़ा व ठोस कदम उठाया है;  क्योंकि दुनिया के कोरोना ग्रसित देशों में देखा गया है कि उसका प्रभाव दूसरे और तीसरे सप्ताह में मरीजों की संख्या में एकाएक वृद्धि आ गई है। इसके बाद की स्थिति इतना खतरनाक हो जाता है कि इससे निपटने में काफी दिक्कतें आ  आती है और बड़े स्तर से जान का नुकसान होने लगता है। इसलिए भारत में समय पर उठाया गया यह महत्वपूर्ण कदम है। भले ही इससे आम जन को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा हो, बावजूद इसके अलावा दूसरा कोई विकल्प भी नहीं है।
दुनिया में जब से यह जानलेवा कोरोना वाइरस सामने आया है,  इसके प्रसार में लगभग हर देश में पहले और दूसरे सप्ताह में समान मामले सामने आए हैं, लेकिन तीसरे सप्ताह के बाद इसके मामलों में तेजी देखने को मिली है। इस प्रकार भारत के लिए तीसरा सप्ताह बेहद ही महत्वपूर्ण है, क्योंकि अगर भारत इस दौरान वायरस को काबू करने में कामयाब रहा, तो यह बड़ी उपलब्धी मानी जाएगी।  हमेें तीसरे सप्ताह के महत्व के बारे में इस बात से पता चलता है कि इटली और ईरान में तीसरे सप्ताह में मामलों में काफी तेजी से बढ़ोतरी देखी गई और नतीजा यह निकला कि वहां हजारों लोगों ने अपनी जान गंवा दी।  सरकार चाहकर भी तमाशबीन बनी रही। मसलन, वहां लापरवाही अधिक देखी गई।

भारत सरकार एन मौके पर लापरवाही से बचना चाहती है और अधिक से अधिक ठोस कदम उठा रही है, ताकि कोरोना आगे न फैले और उसे समाप्त किया जा सके।

बता दें कि इटली में पहले सप्ताह में तीन मामले सामने आए थे। इस दौरान ईरान में दो संक्रमित मरीजों की पहचान हुई, जबकि भारत में पहले सप्ताह में तीन मरीजों के कोरोना से संक्रमित होने की पुष्टि हुई। अगर दूसरे सप्ताह की बात करें तो इटली में इस दौरान 152 लोग इस वायरस से संक्रमित हुए, ईरान में कोरोना ने 43 लोगों को अपनी चपेट में लिया और भारत में केवल 24 मामले ही सामने आए। 
दूसरी ओर, तीसरे सप्ताह में कोरोना के मामलों में तेजी देखने को मिली, इटली में 1,036 लोग इस वायरस से संक्रमित हुए, ईरान में 245 लोग कोरोना का शिकार हुए और भारत में 258 मामले सामने आए। 

इस प्रकार हम आंकलन कर सकते हैं कि कैसे कोरोना वायरस के प्रकोप को रोकने के लिए तीसरा सप्ताह सबसे महत्वपूर्ण माना जा रहा है। तीसरे सप्ताह के बाद मामलों में तेजी से बढ़ोतरी हुई है और संक्रमितों का आंकड़ा सैंकड़ों से बढ़कर हजारों में तब्दील हो गया है। चौथे सप्ताह में इटली में कोरोना वायरस से 6,362 लोग संक्रमित हुए और ईरान में 4,747 लोग इसकी चपेट में आए। इस प्रकार माना जा रहा है कि अगर वायरस को तीसरे सप्ताह के भीतर काबू कर लिया जाता है तो यह एक बड़ी उपलब्धि होगी। 
भारत सरकार की तरफ से भी इस वायरस से निपटने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं। इसी कदम के रूप में भारत में आज जनता कर्फ्यू को लागू किया गया है। लोगों से अपील की गई है कि वह घरों से बाहर न निकलें और इस अभियान में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई गई है।