ALL Old New
अति पिछड़ा वर्ग में शामिल होने के पांचवें वर्षगांठ 22 अप्रैल पर चौरसिया संकल्प सभा का होगा आयोजन
March 4, 2020 • सुरेश चौरसिया

पटना। बरई, तमोली (चौरसिया) जाति को अति पिछड़ा वर्ग में शामिल होने के पांचवें वर्षगांठ  22 अप्रैल 2020 को चौरसिया संकल्प सभा के आयोजन का निर्णय लिया गया है। आज सभा स्थल चयन एवं जिला भ्रमण समिति का गठन किया गया। ज्ञात हो कि 22 अप्रैल 2015 को सूबे की सरकार चौरसिया समाज को अति पिछड़ा वर्ग में शामिल करने का ऐलान किया था। अति पिछड़ा वर्ग में शामिल होने से इस समाज को मुख्यधारा में शामिल होने का मौका मिल रहा है। सभा का उद्देश्य बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कार्य योजना को समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाते हुए लाभान्वित करना है। इस अवसर पर समिति द्वारा चयनित 7 संकल्प का शपथ ग्रहण होगा। सुबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कार्यकलाप की समीक्षा करते हुए सदस्यों ने संतोष जाहिर किया। साथ ही योजनाओं के साथ मुख्यमंत्री उद्यमी योजना का जमकर प्रशंसा करते हुए प्रदेश अध्यक्ष गजेंद्र भगत चौरसिया ने कहा कि इस योजना से चौरसिया समाज को एक नई दिशा मिलेगी। बैठक में 7 सूत्री मांग का प्रस्ताव  भी पारित किया गया।

बिहार में पान फसल के व्यापक नुकसान की भरपाई के लिए सरकार द्वारा चलाए जा रहे योजना से जुड़ने के लिए व्यापक अभियान चलाने का निर्णय लिया  गया है।
 चौरसिया संकल्प सभा के मौके पर बिहार चौरसिया दर्शन नामक स्मारिका के प्रकाशन पर विचार विमर्श किया गया जिसमें सरकार द्वारा चलाए जा रहे योजनाओं का विस्तृत जानकारी दी जाएगी। समिति द्वारा सरकार में प्रतिनिधित्व की मांग पर जोर देते हुए प्रस्ताव पारित किया गया कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को प्रतिनिधित्व के सवाल पर अवगत कराने के लिए एक प्रतिनिधि मंडल का गठन किया गया।
 पान को कृषि का दर्जा दिए जाने के लंबित मांग को अति शीघ्र पूरा करने का प्रस्ताव पारित किया गया।
 इस अवसर पर बैठक की अध्यक्षता प्रदेश अध्यक्ष गजेंद्र भगत चौरसिया ने किया और संचालन धर्मेंद्र चौरसिया द्वारा किया गया। बैठक में सुभाष चंद्र चौरसिया, जितेंद्र चौरसिया, प्रमोद चौरसिया, रंजीत चौरसिया, अभिषेक चौरसिया, अशोक चौरसिया, विक्रम चौरसिया आदि शामिल रहे।