ALL Old New
22 मार्च को जनता कर्फ्यू पर दिल्ली मेट्रो का परिचालन रहेगी बंद, आप भी सतर्कता का रखें ख्याल
March 20, 2020 • सुरेश चौरसिया

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जनता कर्फ्यू 22 मार्च के मद्देनजर बड़े-बड़े कदम उठाए जा रहे हैं। देशवासियों की जिंदगी को बचाने के लिए हर तरीके से प्रयास किए जा रहे हैं। यह सुखद बात है कि प्रधानमंत्री के आह्वान को सरकारी विभाग, सामाजिक संगठन व आम नागरिक इसे गंभीरता से ले रहे हैं।

कोरोना वायरस से सावधानी को देखते हुए रविवार (22 मार्च) को जनता कर्फ्यू के मद्देनजर दिल्ली मेट्रो की सेवा बंद रहने की घोषणा की गई है।  दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) ने शुक्रवार (20 मार्च) को इसकी जानकारी दी। यह पहला मौका है जब दिल्ली मेट्रो का परिचालन बंद किया जा रहा है। आज तक मेट्रो के इतिहास में कभी भी मेट्रो का परिचालन पूरी तरह से बंद नहीं किया गया है। कोरोना वायरस को लेकर हर सतर्कता की बात सामने आ रही है।

डीएमआरसी की विज्ञप्ति में कहा गया कि, ''इस कदम का उद्देश्य लोगों को घरों में ही रहने के लिए प्रोत्साहित करना है, क्योंकि कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए सामाजिक दूरी जरूरी है।" वहीं, देश में कोरोना वायरस के संक्रमण से बृहस्पतिवार (19 मार्च) को चौथी मौत हुई, जबकि राष्ट्रीय राजधानी में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 14 हो गई है। देश में 'कोविड-19' के कुल मामले बढ़ कर शुक्रवार को 206 हो गए हैं।

कल शाम 8 बजे देश में तेजी से कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्र के नाम संबोधन में कोरोना को गंभीर संकट बताया था। पीएम ने कहा कि दो महीने से हम चिंताजनक खबरें सुन रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज दुनिया गंभीर संकट से गुजर रही है। पीएम ने लोगों से कहा कि मुझे आपका आने वाला कुछ समय चाहिए। पीएम मोदी ने कहा कि भारत ने अब तक कोरोना का डट कर सामना किया है।

उन्होंने कहा कि हमारे परिवार में जो भी सीनियर सिटीजन हैं। वे आने वाले कुछ सप्ताह तक घर से बाहर न निकलें। हो सकता है कि वर्तमान पीढ़ी पुरानी कुछ बातों से परिचित न हो। जब मैं छोटा था तब जब युद्ध की स्थिति होती थी, तब गांव-गांव ब्लैकआउट किया जाता था। बत्ती बंद रखी जाती थी। युद्ध न हो तब भी ऐसा किया जाता था। आगे जो नगरपालिका होती थी, वह भी ब्लैकआउट करती थी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि इसलिए मैं आज प्रत्येक देशवासी से एक और समर्थन मांगता हूं। यह है जनता कर्फ्यू। यानी जनता के लिए, जनता द्वारा, खुद पर लगाया गया कर्फ्यू। 22 मार्च रविवार को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक सभी देशवासियों को जनता कर्फ्यू का पालन करना चाहिए। इस जनता कर्फ्यू के दरमियान कोई भी नागरिक घरों से बाहर न निकले।  अपने घरों में रहे। जो आवश्यक सेवाओं से जुड़े हैं, उन्हें तो जाना ही होगा।